प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना: ऑनलाइन आवेदन करें | आवेदन पत्र, पीएमकेएसवाई 2021


प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना ऑनलाइन | पीएमकेएसवाई आवेदन पत्र | कृषि सिंचाई योजना प्रधानमंत्री आवेदन | पीएमकेएसवाई 2021 हिंदी में

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना इसकी शुरुआत हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने किसानों के लाभ के लिए की है। इस योजना के तहत देश के किसान देश के किसानों को उनके खेतों की सिंचाई के उपकरण के लिए सब्सिडी प्रदान की जाएगी। उन सभी योजनाओं के लिए किसानों को यह सब्सिडी भी प्रदान की जाएगी। जिसमें पानी की बचत, कम मेहनत के साथ-साथ लागत की भी ठीक से बचत होगी। जिससे किसान अपने खेतों की सिंचाई कर सकेंगे। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे पीएमकेएसवाई 2021 हम इससे जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध कराने जा रहे हैं. तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021

जैसा कि आप जानते हैं कि खाद्यान्न के लिए कृषि सबसे महत्वपूर्ण है और कृषि तभी बेहतर होगी जब सिंचाई ठीक से की जाएगी। खेतों में सिंचाई के लिए पानी की आवश्यकता होती है। अगर फसलों को ठीक से पानी नहीं मिला तो किसानों के खेत खराब हो जाएंगे। इस पीएमकेएसवाई 2021 इसके तहत किसानों की यह समस्या दूर की जाएगी और किसानों को उनकी खेती के लिए पानी की व्यवस्था की जाएगी। इस योजना के तहत स्वयं सहायता समूहों, ट्रस्टों, सहकारी समितियों, निगमित कंपनियों, उत्पादक किसान समूहों के सदस्यों और अन्य पात्र संस्थानों के सदस्यों को भी लाभ प्रदान किया जाएगा। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 इस योजना के तहत केंद्र सरकार द्वारा 50000 करोड़ रुपये की राशि निर्धारित की गई है।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना

उदयपुर के किसान 15 सितंबर 2021 तक आवेदन कर सकते हैं

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना इस योजना के तहत, बागवानी किसानों को 70% सब्सिडी प्रदान की जाएगी और सीमांत किसानों को ड्रिप प्लांट स्थापित करने के लिए 50% सब्सिडी प्रदान की जाएगी। यह जानकारी उप निदेशक डॉ केएन सिंह ने दी। इसके अलावा छोटे और सीमांत किसानों को फव्वारा संयंत्र की खरीद पर 60% और अन्य किसानों को 50% सब्सिडी प्रदान की जाएगी। इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। यह ऑनलाइन आवेदन राज किसान साथी पोर्टल पर ई मित्र के माध्यम से किया जा सकता है।

आवेदन पत्र भरने के लिए जमाबंदी, ट्रेस मेजरमेंट, प्लांट कोटेशन, मृदा जल परीक्षण रिपोर्ट, बिजली बिल, आधार कार्ड आदि होना अनिवार्य है। इस योजना का लाभ पहले आओ पहले पाओ के आधार पर दिया जाएगा। इस योजना के तहत उदयपुर जिले के किसान 15 सितंबर 2021 तक आवेदन कर सकते हैं।

प्रत्येक खेत के लिए जल योजना हेतु वित्तीय सहायता

जैसा कि आप सभी जानते हैं प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया है। इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य सिंचाई उपकरणों की खरीद पर सब्सिडी प्रदान करना है ताकि खेतों की सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध हो सके। यह योजना किसानों की आय में वृद्धि भी कारगर साबित होगा। देश के विभिन्न जिलों में पानी की किल्लत को ध्यान में रखते हुए यह योजना शुरू की गई है. ताकि फसल की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा सके। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 हर खेत को पानी योजना के तहत योजना शुरू की गई है।

हर खेत को पानी योजना के माध्यम से सरकार द्वारा सभी खेतों को पानी उपलब्ध कराया जाएगा। जिसके लिए कमान क्षेत्र विकास एवं जल प्रबंधन मंत्रालय द्वारा वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। इस वित्तीय सहायता से किसानों को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी ताकि उनके खेतों तक पानी पहुंच सके। अब इस योजना के तहत किसानों को खेती करने के लिए पानी की किल्लत का सामना नहीं करना पड़ेगा।

पीएमकेएसवाई 2021 हाइलाइट्स

योजना का नाम

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना

द्वारा शुरू किया गया

पीएम नरेंद्र मोदी

प्रक्षेपण की तारीख

वर्ष 2015

लाभार्थी

देश के किसान

आधिकारिक वेबसाइट

http://pmksy.gov.in/

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत 1706 करोड़ रुपये स्वीकृत

पीएमकेएसवाई 2021 सरकार की ओर से किसानों की सहायता करने की पहल की गई है। इस योजना के तहत खेतों की सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में 22 दिसम्बर 2020 को वर्चुअल कैबिनेट बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में कैबिनेट ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए 1706 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं. इसमें मध्यप्रदेश की हिस्सेदारी 682 करोड़ 40 लाख 40 हजार रुपये है। मध्य प्रदेश के मंडला, डिंडोरी, शहडोल, उमरिया और सिंगरौली जिलों को इस योजना के तहत शामिल किया गया है। इन जिलों में बोरवेल बनाए जाएंगे। जिससे किसानों को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध हो सके। यह बोरवेल सिंचाई सुविधा प्रदान करने के लिए 62135 हेक्टेयर क्षेत्र में बनाया जाएगा।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 का उद्देश्य

जैसा कि आप जानते हैं कि यदि फसल को उचित मात्रा में पानी न मिले तो वह खराब हो जाती है। जिससे किसानों को भी काफी नुकसान उठाना पड़ता है। भारत एक कृषि प्रधान देश है, देश के सभी किसान कृषि कर पर निर्भर हैं, लेकिन देश के किसानों की जमीन पर खेती करने वाले किसानों की समस्या को देखते हुए सरकार नए कदम उठा रही है। इस योजना के माध्यम से देश के हर खेत में पानी पहुंचाना है। इस प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 जल संसाधनों के इष्टतम उपयोग पर अधिक जोर दिया जाता है, ताकि बाद में और बाद में सूखे से होने वाले नुकसान को रोका जा सके। ऐसा करने से उपलब्ध संसाधनों का कुशल उपयोग होगा और साथ ही किसानों को अधिक उपज प्राप्त होगी। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 इससे किसानों की आय भी बढ़ेगी।

प्रधानमंत्री अधिक फसल प्रति बूंद योजना

यह प्रधानमंत्री मुद्रा प्रति बूंद योजना पांच साल में देश के खेती योग्य क्षेत्र का विस्तार करेगी। इस प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना देश में हर जगह पानी उपलब्ध कराएंगे और देश के फसल राशन को बढ़ावा देंगे। इससे देश के किसानों के जीवन स्तर में सुधार होगा। इस प्रधानमंत्री योजना के तहत जल प्रबंधन प्रणाली द्वारा प्रति फसल प्रति फसल अधिक फसल का प्रबंधन किया जाएगा। सामुदायिक सिंचाई सहित तकनीकी, कृषि और प्रबंधन प्रथाओं के माध्यम से संभावित उपयोग जल स्रोतों को प्रोत्साहित करने के लिए कम लागत के प्रकाशन, पिको प्रोजेक्टर और कम लागत वाली फिल्मों सहित क्षमता निर्माण, प्रशिक्षण और जागरूकता अभियान।

पीएम कृषि सिंचाई योजना की विशेषताएं

  • किसानों को लाभ पहुंचाने और उनकी आय बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाएं संचालित की जाती हैं। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना किसानों के हित में भी शुरू कर दिया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से सभी क्षेत्रों में सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध कराया जाएगा।
  • इस योजना के तहत, सरकार को जल स्रोत जैसे जल संचयन, भूजल विकास आदि प्राप्त होंगे।
  • इसके साथ ही यदि किसान द्वारा सिंचाई के उपकरण खरीदे जाते हैं तो उसे सब्सिडी भी प्रदान की जाएगी।
  • प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना इससे समय और धन दोनों की बचत होगी।
  • इस योजना के माध्यम से सरकार द्वारा ड्रिप सिंचाई, छिड़काव सिंचाई आदि को भी बढ़ावा दिया जाएगा।
  • यदि फसलों को सही प्रकार की सिंचाई मिले तो उपज में भी वृद्धि होगी।
  • इस योजना का लाभ वे सभी किसान उठा सकते हैं जिनके पास अपनी खेती और पानी का स्रोत है।
  • इसके अलावा जो किसान अनुबंध खेती कर रहे हैं या सहकारी सदस्य हैं, वे भी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • स्वयं सहायता समूहों को भी प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का लाभ मिल सकता है।
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा।
  • इस योजना के तहत सरकार द्वारा सिंचाई उपकरण की खरीद पर 80% से 90% तक अनुदान प्रदान किया जाएगा।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 के लाभ

  • इस योजना के तहत देश में खेती करने वाले किसानों को उनके खेतों में सिंचाई के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध कराया जाएगा और इसके लिए सरकार को सिंचाई उपकरण के लिए सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • इस पानी की कमी को पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना शुरू किया गया है। जिससे किसान सिंचाई कर सकेंगे।
  • इस योजना का विस्तार उस भूमि तक किया जाएगा जो कृषि के लिए उपयुक्त है।
  • इस योजना का लाभ देश के उन किसानों तक पहुंचाया जाएगा जिनके पास अपनी खेती योग्य जमीन होगी और जिनके पास जल संसाधन होंगे।
  • प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 इससे कृषि का विस्तार होगा, उत्पादकता बढ़ेगी, जिससे अर्थव्यवस्था का पूर्ण विकास होगा।
  • योजना के लिए 75 प्रतिशत अनुदान केन्द्र द्वारा तथा व्यय का 25 प्रतिशत राज्य सरकार द्वारा वहन किया जायेगा।
  • इससे किसानों को ड्रिप/स्प्रिंकलर जैसी सिंचाई योजना का लाभ भी मिलता है।
  • नई उपकरण प्रणाली के उपयोग से 40-50 प्रतिशत पानी की बचत होगी और इसके साथ ही कृषि उत्पादन और उपज की गुणवत्ता में 35-40 प्रतिशत की वृद्धि होगी।
  • 2018-2019 के दौरान, केंद्र सरकार लगभग 2000 करोड़ खर्च करेगी, और अगले वित्तीय वर्ष में इस योजना पर अन्य 3000 करोड़ खर्च किए जाएंगे।

पीएम कृषि सिंचाई योजना 2021 के लिए पात्रता

  • इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों के पास कृषि योग्य भूमि होनी चाहिए।
  • इस योजना के पात्र लाभार्थी देश के सभी वर्गों के किसान होंगे।
  • पीएम कृषि सिंचाई योजना स्वयं सहायता समूहों, ट्रस्टों, सहकारी समितियों, निगमित कंपनियों के सदस्यों, उत्पादक किसान समूहों के सदस्यों और अन्य पात्र संस्थानों के सदस्यों को भी लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • पीएम कृषि सिंचाई योजना 2021 योजना का लाभ उन संस्थाओं एवं हितग्राहियों को दिया जाएगा जो कम से कम सात वर्ष तक लीज एग्रीमेंट के तहत उस जमीन पर खेती करते हैं। यह पात्रता अनुबंध खेती के माध्यम से भी प्राप्त की जा सकती है।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 के दस्तावेज

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • किसान की जमीन के कागजात
  • भूमि जमा (खेत की प्रति)
  • बैंक खाता पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना 2021 में आवेदन कैसे करें?

योजना की जानकारी हर किसान तक पहुचाने के लिए आधिकारिक पोर्टल यहां योजना से जुड़ी हर जानकारी के बारे में विस्तार से बताया गया है। पंजीकरण या आवेदन के लिए राज्य सरकारें अपने-अपने राज्य के कृषि विभाग की वेबसाइट पर आवेदन ले सकती हैं। यदि आप योजना के लिए आवेदन करने के इच्छुक हैं तो आप अपने राज्य के कृषि विभाग की वेबसाइट पर जाकर आवेदन से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

संपर्क जानकारी

इस लेख के माध्यम से, हमने आपको प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की है। यदि आप अभी भी किसी भी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके या ईमेल लिखकर अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं। हेल्पलाइन नंबर और ईमेल आईडी से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

महत्वपूर्ण कड़ियाँ

,

Leave a Comment